पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 7 मार्च 2017

599....समझाया बापू ने गो - वध राम राज्य का घातक है ।


जय मां हाटेशवरी...

कल हमारा ये दैनिक चर्चा ब्लॉग  छठा शतक लगाने वाला है...
इस लिये सब कुछ नया है...
जैसे ही कल प्रातः    6 सौवां अंक...
दिखाई देगा...
राजनीति की भाषा में कहूं तो...
हिंदी ब्लॉग संसार में...
...भूकंप आ जाएगा...
देखिये...आज क्या नया है...


ग़ज़ल
आपसी प्यार से ही लोग जुड़े आपस में
बिन मुहब्बत के तो घर एक मकां होता है |
हैं चतुर नेता सभी, काम बताते कुछ भी
हर कदम में कोई इक राज़ निहां होता है |

बस्तों के बोझ तले दबता बचपन
वह लड़खड़ा कर गिरने को ही थी कि बस के कंडक्टर ने पीछे से उसके बस्ते को पकड़ कर उसे गिरने से बचा लिया।मै  भी अपनी गुड़िया को बस में चढ़ा कर वापिस घर की ओर चल पड़ी ,लेकिन इस घटना में मुझे झकझोर दिया ,नन्ही सी जान पर इतना जुल्म ,सुबह से शाम तक स्कूल,उसके बाद शुरू हो जाता है ट्यूशन जाने का सिलसिला ,फिर होमवर्क और हर सप्ताह टेस्ट ,सारा वक्त पढाईऔर बस पढाई ।

संसार को सही दृष्टि से देखना चाहिए।
 हर व्यक्ति को अपनी ही मान्यताओँ अपने ही आदर्शोँ, अपने ही विचारोँ और अपनी ही व्यक्तिगत पसंदगी से नापना कोई बुद्धिमत्तापूर्ण कार्य नहीँ हो सकता

जनकवि कोदूराम "दलित" : १०७ वीं जयंती पर विशेष
" गो - वध बंद करो जल्दी अब, गो - वध बंद करो
भाई इस - स्वतंत्र - भारत में, गो - वध बंद करो ।
महा - पुरुष उस बाल कृष्ण का याद करो तुम गोचारण
नाम पड़ा गोपाल कृष्ण का याद करो तुम किस कारण ?
माखन- चोर उसे कहते हो याद करो तुम किस कारण
जग सिरमौर उसे कहते हो, याद करो तुम किस कारण ?
मान रहे हो देव - तुल्य उससे तो तनिक-- डरो ॥

समझाया ऋषि - दयानंद ने, गो - वध भारी पातक है
समझाया बापू ने गो - वध राम राज्य का घातक है ।
सब  - जीवों को स्वतंत्रता से जीने - का पूरा - हक़ है
नर पिशाच अब उनकी निर्मम हत्या करते नाहक हैं।
सत्य अहिंसा का अब तो जन - जन में भाव - भरो ॥

आम बौराइल, गमके महुआ, कुहू - कुहू बोले कोयलिया
इस अवधि में शीशम के पेड़ हरे रंग की रेशम सी कोमल पत्तियों से ढँक जाते हैं। स्त्री पुरूष केसरिया वेशभूषा में प्रकृति के रंगों में घुल मिल जाते हैं, ऐसा प्रतीत होता है मानो, वे भी प्रकृति के अंग हों। मधुुरता, कोमलता तथा मनुष्‍य के मन की व्‍य‍था की सहज अभिव्‍यक्ति में चैता गीत अपना सानी नहीं रखते-
रसे रसे डोले पवनवा हो रामा, चैत महिनवा।
चैत अंजोरिया में आप नहाइले, तरई क चुनरी प‍हिरि मुसकाइले,
रहि रहि हुलसे परवना हो रामा, चैत महिनवा।
कुहू कुहू कोइलिया अंधेरे अंगिया डगरिया के टक टक हेरे,
भइल अधीर नयनवा हो रामा, चैत महिनवा।
फुनगी से झांके रे नन्‍हीं नन्‍हीं पतियां,
लहरि लहरि समझावेलि बतिया,
जाने के कौन करनवा हो रामा, चैत महिनवा।
होत बिहाने बहारे घना अंगना, धीरे से खनक उठइ कर कंगना,
लहरे ला रस का सपनवा हो रामा, चैत महिनवा।

अनहोनी
रात दिन के चक्र में,
संध्याएँ ही आनंदमय हैं
हम हरसमय और हर हमेशा,
संध्या में रहना चाहते हैं.
रेल की दो पटरियों को
हम मिलाना चाहते हैं
आज बस इतना ही...
अंत में देखिये...


धन्यवाद।

















8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    शुभ कामनाएं
    अच्छी रचनाएँ
    अच्छा वीडियो
    वीडियो पहली बार प्रस्तुत किया आपने
    बधाइयाँ
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. फिर से मैं ही
    कल की प्रस्तुति में
    आदरणाीय भाई सुशील जी की प्रतिक्रिया पर
    हमारे पड़ोस मे रहने वाली दीदी उत्तर प्रदेशीय हैं
    सब किस्म की ठिठौली करती है
    उन्हें ही सब दीदी और चाची कहते थे
    परसो अचानक दो परिचित उनके घर आए
    कहने लगे... भौजी तनि चाय तो पिलाओ न आज
    बहुते दिन हो गए तोहरे हांथ से नही पिए हैं
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ऐसा क्यूँ ?
      मेरी टिप्पणी कुछ ग़लत असर छोड़ गई ?

      हटाएं
    2. आदरणीय दीदी
      मैं अपनी प्रस्तुति में लिख दी थी कुछ यूँ
      होलाष्टक लग गया है..
      कोई शुभ कार्य नहीं
      लोगों की जबान का ताला खुल गया है
      कल तक दीदी कहने वाले
      आज भाभी कहने लगे...
      इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त की थी भाई सुशील जी ने
      आप कृपया कल की प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

      हटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति कुलदीप जी । ये राजनीति किस बात की? और भूचाल कहाँ से आ गया ? होली में रंगों के बम फोड़ रहे हो तो अलग बात है :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...