पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 11 मार्च 2017

603 शायद


ज़मीर कंकरीट के हो चुके
सरिता को क्या बचाएँ
पत्थरों से सरि को बचाने की गुहार

चित्र में ये शामिल हो सकता है: 4 लोग, लोग बैठ रहे हैं और बाहर


चित्र में ये शामिल हो सकता है: एक या और लोेग

सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष


पिछली पोस्ट बहुत कम समय दे कर बना पाई थी ... इस बार कमी पूरा करने वाली थी 
लेकिन समय पर काम नहीं करने पर , बचे काम "जादू वाले पुआ" हो जाते हैं।




रंग न जाए कोई दूजा,कान्हा अब तो 
आ जाओ
भंग पिए सब रंग लगावत,कैसे बचकर 
जाऊँ रे





दोनों ने आँखों में ही एक-दूसरे से जैसे कहा हमारे 'सर्कस' या 'बाराबंकी बाजार' से
 हमे कितना कुछ मिलता है पर सुविधानुसार हम अपनी तरफ से 
किये गए काम याद रखते हैं और वहाँ से मिला सहारा 
हम कभी देखना ही नहीं चाहते।











या बीमार मैं हो जाऊं
असर उस ओर भी होता है
रोये जो अंख तेरी
दिल मेरा भी रोता है




"मत शिक्षा दो इन बच्चों को चांद- सितारे छूने की।
चांद- सितारे छूने वाले छूमंतर हो जाएंगे।
अगर दे सको, शिक्षा दो तुम इन्हें चरण छू लेने की,
जो मिट्टी से जुङे रहेंगे, रिश्ते वही निभाएंगे.


<><>

फिर मिलेंगे

विभा रानी श्रीवास्तव



चित्र में ये शामिल हो सकता है: 7 लोग, मुस्कुराते लोग, सेल्फ़ी और अंदर




4 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    मेरी दीदी
    अच्छी प्यारी
    काफी भारी
    क्षमता वाली
    मेरा तुझको
    सादर प्रणाम
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति । होली की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...