पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 16 मार्च 2017

608......खुजली ‘उलूक’ की

सादर अभिवादन
हिन्दी वर्ष का अंतिम उत्सव के साथ
समापन हो रहा है...
बेसब्री से प्रतीक्षा है 
मातेश्वरी का
हिन्दू नव-वर्ष की अग्रिम शुभ कामनाएँ

आज की पसंदीदा रचनाएँ.........

आज पहली बार प्रवेश कर रहे हैे
श्री ध्रुव सिंह जी "एकलव्य"



डर लगता है फिर वही,
आँखें मूंदने से 
सपनें देखने से  
उनके टूटने से 
अश्क गिरने से
अरमान बहने से
दरिया बनने से

ओ हसीन तन्हा चाँद
ओ झिलमिल सितारों
उतर आओ जमीं पर
रात के खामोश दामन पर
महफिल हम जमायेगे
चंदा तुम फूलों को चूमकर
अपनी दिल की बात कहना


चतुर एकलव्य..........शोध छात्रा हेमलता यादव
निषाद-पुत्र
एकलव्य का
दाहिना अंगूठा आज
तक नहीं उग पाया।
गुरु द्रोण
जो उच्चवर्ण के
एकाधिकार संरक्षण हेतु
मांगा था आपने।

इस शहर के लोग..........डॉ.टी.एस.दराल  
लोग पैट पालने का शौक तो पाल लिया करते हैं ,
लेकिन पैट का पेट फुटपाथ पर साफ़ कराते हैं जिस पर खुद चला करते हैं।
फिर कहीं पैर में पैट का पेट त्याग न लग जाये ,
इस डर से इस शहर में लोग सर उठाकर नहीं , सर झुकाकर चला करते हैं।


किस लिए............आशा सक्सेना
आपने क्रोध जताया
किस लिए
डाटने में मजा आया
इसलिए
या हमने कुछ
गलत लिया इसलिए

post-feature-image
मेरा 'अंश' आगे बढ़ा !!!....... ज्योति देहलीवाल
हां दोस्तो, 11 मार्च 2017 का दिन मेरे लिए एक विशेष खुशी का पैगाम लेकर आया। इस दिन मैं एक नन्हीं सी परी की नानी बन गई, नानी...! कितना अच्छा लगता है न यह संबोधन! विश्वास ही नहीं होता...कल तक जो खुद एक बच्ची थी, वो आज इतनी बड़ी हो गई कि एक बच्ची की माँ बन गई! कभी-कभी मन में विचार आता है कि जिस लड़की से यदा-कदा बुखार आने पर क्रोसिन की एक गोली गिटक के नहीं होती थी...वो लड़की डिलीवरी में इतनी गोलियां कैसे गिटकती होगी? कैसे सहन किया होगा उसने इतना दर्द? उसकी नॉर्मल डिलीवरी हुई है। उस वक्त तो बहुत दर्द होता है...कैसे सहा होगा ये दर्द मेरी बच्ची ने?

अब और नहीं...........ऋता शेखर 'मधु'
भोजन का वक्त हो चुका था| देवरानी अन्दर देखने आई तबतक उर्मिला जी माँड पसा रही थीं| उत्सुकतावश देवरानी ने वह कागज उठा लिया| पढ़ते ही स्याह हो गई| फिर खुद को संयत करते हुए बोली, ‘’जिज्जी, अब इस उम्र में नौकरी....’’ ‘’छोटी, देख , इस काठ की हाँडी में मैने चावल पकाया है| आगे यह हाँडी नहीं चढ़ेगी|’’ ‘’जी, जिज्जी’’ समझदार देवरानी, जेठानी के स्वाभिमान से दीप्त चेहरे को पढ़कर चुप रह गई|


बात पते  की....डॉ सुशील जोशी

इस बार
वो भी
देशभक्तों
के साथ
आ रहे हैं
समझा रहे हैं

समझिये
देश भक्त
देशभक्ति
चुनाव और
लोगों की
सक्रियता

....
इजाजत मांगती है यशोदा
सादर












11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर संकलन👌
    मेरी रचना को मान देने के लिए आभार बहुत सारा आपका यशोदा जी🙏

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात सुंदर संकलन आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुप्रभात
    बहुत सुन्दर और सार्थक लिंको का चयन

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर प्रस्तुति। आभार यशोदा जी खुजली ‘उलूक’ की को स्थान देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर संकलन। पांच लिंकों का आनन्द में" में मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद, यशोदा जी!

    उत्तर देंहटाएं
  6. अपनी अनमोल रचनाओं के संग्रह में मेरी रचना "डर लगता है आज भी" को स्थान देने के लिये आपका ह्रदय से आभार व्यक्त करता हूँ। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  7. धन्यवाद यशोदा जी मेरी रचना शामिल करने के लिए आज के पांच लिंकों के आनंद में |

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...