पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 1 अप्रैल 2017

624... प्रीत की डोरी


सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

><><
प्रीत की रीत की होती नहीं जीत यहाँ
ह्रीत के नीत के होते नहीं मीत यहाँ
शीत यहाँ आगृहीत तड़ीत रूह बसा
क्रीत की गीत की होती नहीं भीत यहाँ
><><

प्रीत की डोरी पर दो दूर देशो में
रहने वाले
दो अलग अलग लोग
एक ही होते है



प्रीत संग प्रीत संग प्रीत बनाई है।
प्रीत संग मीत निभाई है।
आज रिश्तों की डोर हमने ,
मीत संग प्रीत सजाई है।



प्रेम के देवता तुम कहो-रूप का यह जो दर्पण मेरा ,
उसको तुम पर ही केवल लुटा के रहूँ।
आज फिर तो बजी बांसुरी मन मेरे ,
तुम तो कन्हा बनो ,मैं तो राधा रहूँ।



खग का नीर आँचल की कोर बंधी प्रीत की डोर,
मन विह्ववल, चंचल चित, चितवन चितचोर,
लहराता आँचल जिया उठता हिलकोर,
उस ओर उड़ चला मन साजन रहता जिस ओर।



कवयित्री टूट  जाये  ना  ये  डोर  है  प्रीत  की
हम  इसी  बात  को ले के डरते  रहे

वो  जगह  रिक्त थी जो तुम्हारे बिना
हम  उसी को हमेशा  ही भरते   रहे


><><

प्रीत की बात करना ..... मुर्खता खुद का साबित करना


क्या कहते हैं
हूँ न बड़ी सी मुर्ख
फिर मिलेंगे


विभा रानी श्रीवास्तव



8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    विषय-विशेष पर
    सुन्दर प्रस्तुति
    सम्मान दिवस पर आपको शुभकामनाएँ
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आँचल की कोर बंधी प्रीत की डोर,
    मन विह्ववल, चंचल चित, चितवन चितचोर,
    लहराता आँचल जिया उठता हिलकोर,
    उस ओर उड़ चला मन साजन रहता जिस ओर।

    Thanks

    उत्तर देंहटाएं
  3. halchalwith5links.blogspot.in
    यह पांच लिंकों का आनन्द नही बल्कि पांच जन्मों का आनन्द है। पूरी टीम को प्रणाम, साधुवाद एवं सफलता की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ज्ञानवर्धक ,रोचक एवं सुंदर संकलन आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर प्रस्तुति विभा जी। प्रीत की बात करना अगर मूर्खता है तो ईश्वर करे मूर्खों की संख्या में उत्तरोत्तर वृद्धि हो मूर्खों की जय हो। :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रीत की डोर से ही ये सारा संसार बँधा हुआ है अगर वह टूटा तो सब बिखर जाएगा
    बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर संकलन सुंदर रचनाएँ👌👌

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...