पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 2 अप्रैल 2017

625...एक खेमें को आधा हिस्सा देने के लिये दूसरा खेमा पूरे से आधा बाहर हो गया है

सादर अभिवादन

Subaha Ho Gai Mumu Scraps
आज अभी तक भाई विरम सिह दिखाई नही पड़े
आशंकित रहती हूँ मैं हमेशा..सो पढ़ी हुई रचनाओं के लिंक्स
सहेजते जाती हूँ.....यह रही उन रचनाओं की कड़ियाँ...



बहती धारा.....साधना वैद
भोर का तारा
छिपा बही जैसे ही
नूर की धारा




आम आदमी डे की शुभकामनाएं.....सखाजी
आम आदमी दिवस की खास आदमी को शुभकामनाएं, क्योंकि आम इससे अब भी बेखबर है। पहले सदियों तक धर्म, फिर राजतंत्र और अब लोकतंत्र जिसे "बना" रहा है। हैप्पी अप्रैल फूल-2017



दिल का गुमां...सुरेश  स्वप्निल
मुहब्बत  न  हो  तो  जहां  क्या  करेगा
ज़मीं  के  बिना   आस्मां   क्या   करेगा

नफ़स  दर  नफ़स  दिल  जहां  टूटते  हों
वहां  कोई  दिल  का  गुमां  क्या  करेगा 



विकल्प......डॉ. जेन्नी शबनम
मेरे पास कोई विकल्प नहीं  
पर मैं हर किसी का विकल्प हूँ,  
कामवाली छुट्टी पर तो मैं  
रसोइया छुट्टी पर तो मैं  
सफाइवाली छुट्टी पर तो मैं  



नीयत....ओंकार केडिया
अर्जुन, नादान था मैं,
सच में उन्हें गुरु मान बैठा,
उनकी चालाकी से बेख़बर 
झट से अपना अंगूठा दे दिया,
उस गुरु-दक्षिणा का वे क्या करते?
क्या भला होना था उससे किसी का?


बात पते की....डॉ. सुशील जोशी


दहेज 
बहुत है 
लड़की के
बाप के पास 
देख कर
बारात में ही 
दूल्हा 
एक और 
तैयार हो गया है
पहला 
वाला दूल्हा 
भी कहाँ 
छोड़ने वाला 
है मैदान
लड़की 
बांटने को ही
तैयार हो गया है

आज्ञा दें यशोदा को



5 टिप्‍पणियां:

  1. उम्दा प्रस्तुतीकरण
    सस्नेहाशीष संग शुभ प्रभात छोटी बहना

    उत्तर देंहटाएं
  2. ज्ञानवर्धक ,रोचक एवं सुंदर संकलन हृदयातल से धन्यवाद देता हूँ आपको।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आसान नहीं होता है जिम्मेदारी ले कर निभा ले जाना। बहुत सुन्दर प्रस्तुति। आभारी है 'उलूक' यशोदा जी का सूत्र 'सौदा' को जगह देने पर।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूबसूरत सूत्रों का संकलन ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका बहुत-बहुत आभार यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...