पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 3 अप्रैल 2017

626...जरूरी नहीं कुछ जले और धुआँ भी उठे

सादर अभिवादन..
कहर टूट पड़ा है..उत्तर प्रदेश में
बरस रही है अच्छाइयाँ ही अच्छाइयाँ
कभी आपने सुना है कि मीडिया ने किसी की सराहना की हो
वह तो हर वक्त उगलते रहता है..धुआँ
आइए चले आज की रचनाओं की ओर..  

कौन कहता है सफलता जिन्दगी का गीत है
असफल हुआ न जो कभी,मानव नही वह पूर्ण है
कौन कहता है कि जीवन खुशियों का संगीत है
गम नही जीवन मे जिसके,मानव वह अपूर्ण है

तराशते तराशते जब,
पहुँच जाओ उस हिस्से तक,
जिसे दिल कहते हैं,
रुक जाना तब, मेरे शिल्पकार !
वह अभी नहीं हुआ पत्थर,
बसता है उसमें प्यार !
ओ मेरे शिल्पकार ! 


तुम मरते किरदार को जिन्दा रखो.....विशाल मौर्य विशु
दुश्मन के हर वार को जिन्दा रखो
जीतोगे, बस हार को जिन्दा रखो

हर झूठ को दफ्न हो ही जाना है
सच लिखते अखबार को जिन्दा रखो




मैंने देखा था नदी को
गणगौर पर्व में और
संजा पर्व में -
जब विदा करती थी उसे
गले लगा -उसी नदी में

मेरी कोई भी अच्छाई
जो मेरे होते
कोई मायने नहीं रखती थी
उसे अर्थहीन ही रहने देना
सामाजिकता का ढकोसला मत करना
मेरे मृत शरीर पर
फूल मत चढ़ाना  ....


धुआँ बनाना
तो और भी 
मुश्किल काम है
कब कौन क्या 
जला ले जाता है
किसी को पता 
नहीं चल पाता है
हर कोई अपना 
धुआँ बनाता है
हर कोई अपना 
धुआँ फैलाता है
कहते हैं 
आग होगी
तो धुआँ 
भी उठेगा

आज्ञा दें दिग्विजय को..
सादर


11 टिप्‍पणियां:

  1. हृदयस्पर्शी संकलन ! "दिग्विजय जी" आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह्ह्ह बहुत सुंदर मनभावन संकलन👌

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया प्रस्तुति। आभार दिगविजय जी 'उलूक' के धुएं को जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. Very good presentation. मेरी कविता को स्थान देने के लिए धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Very good presentation. मेरी कविता को स्थान देने के लिए धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर संकलन, मेरी कविता को शामिल करने हेतु सादर धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर संकलन, मेरी कविता को शामिल करने हेतु सादर धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...