पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 5 अप्रैल 2017

628.....उधर ना जाने की कसम खाने से क्या हो वो जब इधर को ही अब आने में लगे हैं

अभय दाता श्री राम
लोकाभिरामं रनरङ्‌गधीरं राजीवनेत्रं रघुवंशनाथम्‌ ।
कारुण्यरूपं करुणाकरंतं श्रीरामचंद्रं शरणं प्रपद्ये ॥
राम नवमी की शुभकामनाएँ

सादर अभिवादन
आज कुछ पुराना  नहीं नया भी है.. पढ़ने को
कुछ न कुछ...देखिए... आनन्द ही आएगा..


सूरज ताका धीरे से.....श्वेता सिन्हा
रात की काली चुनर उठाकर
सूरज ताका धीरे से
अलसाये तन बोझिल पलकें
नींद टूट रही धीरे से
थोड़ा सा सो जाऊँ और पर
दिन चढ़ आया धीरे से




मुझे देख कर उसने बिलखते हुए कहा – “ अंकल जी ! आप मुझे कल सुबह क्यों नहीं मिले। जब वे कुत्ते मुझ पर झपटे तो मुझे आपकी बहुत याद आ रही थी और जब वह दरिंदे मुझे अर्द्धचेतन अवस्था में छोड़ कर भाग गए तो मेरे मन में इच्छा-मृत्यु की कामना उठ रही थी कि काश सच में गली के कुत्तें कल मुझे नोच खाते तो कितना अच्छा होता।”


लोगों की सान्त्वना 
वक्त का मरहम 
हर पीड़ा हर लेता है,
कितने भी गहरे हों 
घाव, हर व्रण को 
भर देता है। 

मुफ्त नहीं मुहब्बत मेरी,तुम्हें झुकना होगा,
तुम सिर्फ मेरे हो,ये वादा तुम्हें करना होगा,
धोखा नहीं चलेगा,प्यार के इस व्यापार में,
खुल के दुनिया के सामने,दम भरना होगा।


विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य दिवस आगामी 7 अप्रैल को मनाया जाएगा तब तक देखें आप स्‍वयं को स्‍वस्‍थ रखने के लिए क्‍या क्‍या कोशिश करते हैं। इस बार वर्ल्‍ड हेल्‍थ ऑरगेनाइजेशन ने इसकी थीम रखी है ''अवसाद''..; और अवसाद है मन की बीमार अवस्था जिसे सिर्फ स्‍वयं के मन से ही ट्रीट किया जा सकता है। 

बातें आने-जाने की....डॉ. सुशील जोशी
चश्मे के ऊपर 
एक और 
चश्मा लगा 
दिन ही नहीं 
रात में तक 
आने लगे हैं 
अपने ही 
घर को 
आबाद 
करने की 
सोच पैदा 
क्यों नहीं 
कर पा 
रहे हो 
'उलूक'

आज्ञा दें यशोदा को
सादर




8 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर संकलन! यशोदा जी ,सभी रचनाकारों को एक मंच पर लाने की यह एक सराहनीय कोशिश है आपकी।
    शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। सुन्दर चित्र चयन। आभार यशोदा जी 'उलूक' के एक पुराने सूत्र को भी स्थान देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुप्रभात
    बहुत सुन्दर लिंको का चयन

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल। "वक्त का मरहम" को शामिल करने के लिये बहुत धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर लिंकों से सजी बहुत अच्छी पांच लिंकों का आनंद की प्रस्तुति। आपको भी राम नवमी का शुभकामनाएँ यशोदा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुभ दोपहर....
    सुंदर....
    अति सुंदर....

    उत्तर देंहटाएं
  7. "पांच लिंकों का आनंद में" मेरी कविता "मुफ्त नहीं मोहब्बत मेरी" को स्थान देने के लिए सादर धन्यवाद आपका यशोदा अग्रवाल जी !

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...