पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 8 अप्रैल 2017

631 .. मतलबी




Image result for मतलबी पर कविता



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष


क्यूँ ?
ग्वैंयाँ
जनियाँ
ढ़ोंगी तार
कोरी गप्पियाँ
धारे क्या ओढें क्या
स्वार्थी जेबें के यार


मतलबी


गौरव की प्राप्ति में प्रतिष्ठा दाव पर लगा
ख़ौफ़नाक असत्य के पीछे बेपरवाह भागता
असत् घृणित कृत्यों में लीन लापरवाह
महिमामई गौरवशाली पदवी की तालाश सदा


मतलबी



"डॉक्टर यही चाहता है के आप बीमार पड़ो,
कफ़न बेचने वाला आपके यहाँ किसी के मरने की राह देखता है।
एक  वक़ील  हर वक़्त आपके घर में कलेश होने की दुवा करता है.…
सिर्फ एक चोर है जो आपके सुख चेन की नींद भगवान से मांगता है"



मतलबी



एक बार उसकी झलक देख ली , जन्नतकी हूरो को आदाब कहना छोड़ दिया,
दूरियों में उम्र गई,वो आये मैयत से पहले,हम पलके कब्रसे उठाना भूल गये .

जिसकी कृपासे सब मिलता है, उसको अपनी मोह माया तले भूल चले
मतलबी दुनियाको मंज़िल बना बैठे, राम रहिम को दिया जलाना का भूल गये



कई बार



कई बार झुठलाया सब कुछ
कई बार जतलाया भी
कई बार सब नाता छोड़ा
कई बार निभाया भी
कई बार गुब्बारा छीना


मतलब अपने हिसाब से


किचन में
काम कर रही पत्नी के पास
जाकर
बोला - " मैंने
अपनी जिंदगी के सबसे अच्छे
बरस उस औरत के
बाहों मे गुजारे
जो मेरी पत्नी नहीं थी....।"


><><


फिर मिलेंगे

विभा रानी श्रीवास्तव







6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    भला हो उस चोर का
    सुख चैन की नींद भगवान से मांगता है"
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...