पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 15 अप्रैल 2017

638.... लेखन



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष


अपनों गैरों के ताने सुन सुन जी माना जीतना
कुरीतियों के विरोध में जब से है ठाना लिखना


लेखनकौशल का अभ्यास शुरू करने की उलझन और उहापोह से 
निकलने का सबसे बढ़िया तरीका उपर्युक्त उक्ति में ही छिपा है।
 यह बात अपने दिमाग से एकदम निकाल दें कि आप खराब लिखेंगे 
या फिर अच्छा लिखेंगे। बस आप लिखना शुरू कीजिए और फिर
 देखिए कि किस तेजी से आपके लेखन कौशल में सुधार आना शुरू होता है।



लेखनीइक पहेली जिंदगी, मुझसे सुलझती ही नहीं थी,
आग थी मुझमें छिपी, पर वह सुलगती ही नहीं थी,
और यह दुनियां भी मेरा साथ अब तो छोड़ती है,
मंद गति मेरी हुई पर लेखनी अब दौड़ती है।



लेखनीसुस्ता लूं
किसी संगीत का आनंद ले लूं
किसी कोमल धुन को याद कर लूं
किसी मनोरम दृश्य को याद कर लूं
इस एकांत में,
कोई सीन खेल लूं


मेरा हाल सोडियम-सा हैआज आस्था पर हमला है
मूल्य धर्म का गिरा लेखनी अब सुन ले । 84 
देव-देव सहमा-सहमा है
असुर लूटते मजा लेखनी अब सुन ले । 85 
अब रामों सँग सूपनखा है
त्यागी इनने सिया लेखनी अब सुन ले । 86 
आज कायरों कर गीता है



आज मेरे पति महोदय का जन्मदिन है
थोड़े घर के काम कर लूँ

विभा रानी श्रीवास्तव




5 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय दीदी
    सादर नमन
    शुभ प्रभात
    लेकिन शब्द वाली फुर्सत मिलती तो है
    भाव वाले नहीं मिलते
    हर चीज़ के अब दो मतलब हो गए हैं।
    मतलब के भी दो
    दो के भी दो
    कुछ भी हो.
    सुन्दर प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. श्रीमान जी को हमारी ओर से जन्मदिन की शुभकामनाएं दीजियेगा। सुन्दर प्रस्तुति विभा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...