पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 17 अप्रैल 2017

640....बिना डोर की पतंग होता है सच हर कोई लपेटता है अपनी डोर अपने हिसाब से

सादर अभिवादन
मेरी डायरी के पन्ने से दो पंक्तियाँ....
झूझती रही बिखरती रही टूटती रही 
कुछ इसी तरह ये ज़िन्दगी निखरती रही !

प्रस्तुत है मेरी पसंद की ये रचनाएँ...

सही में औरतें 
बहुत ही बेवकूफ होती है 
हजारों ताने उल्हाने, 
मार पीट सहकर भी 
उम्मीद का दामन 
जो नहीं छोड़ पाती 
यह औरतें न जाने 
कितनी बार टूट -टूटकर 
बिखर जाने के बाद भी 
खुद को समेट जो लेती हैं

image not displayed
तारे...श्वेता सिन्हा
भोर की किरणों में बिखर गये तारे
जाने किस झील में उतर गये तारे

रातभर मेरे दामन में चमकते रहे
आँख लगी कहीं निकल गये तारे



इसमें तुम्हारा क़सूर नहीं,
मेरी ही ग़लती थी 
कि मुझे ऐसा लगा,
पर जब लग ही गया,
तो मुसाफ़िर,
बस इतना कर देना 
कि जब मेरी गली से गुज़रो,
तो मेरी ओर देख लेना.

द्रौपदी का दर्द......साधना वैद
कब तक तुम उसे 
इसी तरह छलते रहोगे !
कभी प्यार जता के, 
कभी अधिकार जता के,
कभी कातर होकर याचना करके,


दही को एक कपड़े में बाँध कर 3-4 घंटे के लिए टांग दें 
जिससे कि उसका सारा पानी निकल जाए.
अब थोड़े से ब्रेड क्रम्बस निकाल कर बाकी सारी चीजें मिला लें.
अब इसे कबाब के आकार का बनाकर, ब्रेड क्रंब्स में लपेटें और गर्म तेल में शैलो फ्राई कर लें.

वक़्त... ऐसा लगता है कि दुनिया में बस यही एक चीज है जिसका चलते रहना निश्चित है... देखो न वक़्त के पहिये ने देखते ही देखते 5 साल का सफ़र तय भी कर लिया और हमें खबर तक नहीं हुयी... वैसे हम जिस जन्मों-जन्मों के सफ़र पर निकल चुके हैं, 


सच पर 
शक करना 
ठीक नहीं 
होता है 

‘उलूक’ 

कोई कुछ 
नहीं कर 
सकता है 
तेरी फटी 
हुई 
छलनी का 

सादर



8 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात
    बहुत सुंदर हलचल प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति। आभार यशोदा जी 'उलूक' के सूत्र को जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर और उपयोगी लिंकों का चयन,मेरी रचना को मान देने के लिए आभार आपका यशोदा दी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभप्रभात....
    सुंदर...
    बहुत अच्छी हलचल...

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज की हलचल में सभी पठनीय सूत्र ! मेरी रचना, 'द्रौपदी का दर्द', को भी सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से आभार यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...