पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 30 अक्तूबर 2017

836..केवल अंधेरी खाई में गिरना ही हमारा भाग्य होगा।

आज लिखना मैं बहुत ही आवश्यक नहीं समझता। 
परन्तु भारत में इन जनप्रतिनिधियों की मनमानी देखकर हृदय में 
इनके प्रति सम्मान घटता जा रहा है। 
नित नये नियम - क़ानून केवल अपनी स्वार्थपूर्ति हेतु, संविधान की मर्यादा को दरकिनार करना, विचारों की अभिव्यक्ति को 
कुचलने का षड़यंत्र ! 
इस अनोखे लोकतंत्र के स्वास्थ्य के लिए कहीं से हितकर नहीं।  
अतः कुछ न लिखने से बेहतर कुछ लिखना अतिआवश्यक है। 
घूमने दो समय का पहिया !
चलने दो हमें भेड़ -चाल !
आशा है एक दिवस अवश्य पहुँच जायेंगे !
उस अँधेरी खाई की तरफ़ 
आवाज़ लगायेंगे और प्रतिउत्तर में हमारी ही ग़लतियों की 
प्रतिध्वनि हमें सुनाई देंगी। 
परन्तु अफ़सोस तब हम असमर्थ होंगे !
केवल अंधेरी खाई में गिरना ही हमारा भाग्य होगा।


सादर अभिवादन। 


 कवि : नितीश कुमार , कक्षा : 7th ,अपनाघर 

ऐ खुदा कुछ ऐसा कर, 
कि मेरी जिंदगी सुधर जाए | 
काश कुछ ऐसा हो, 
जिस पर मैं चल सकूं |  

आदरणीय "ओंकार" 


छूट गया पीछे स्टेशन,
ओझल हो गए परिजन,
जाने-पहचाने मकान,
गली-कूचे, सड़कें,
पेड़,चबूतरे- सब कुछ.

आदरणीय  "जयन्ती प्रसाद शर्मा"  
 शाह झांकते है बगल, हावी रहते चोर।।
बागी-दागी तंत्र को, कर देते कमजोर।
शासन का इन पर नहीं, चल पाता है जोर।। 
तुष्टिकरण समाज में, पैदा करता भेद। 

आदरणीय "ज्योति खरे" 


 तुम्हारे खामोश शब्द
समुंदर की लहरों जैसा कांपते रहे
और मैं 
प्रेम को बसाने की जिद में
बनाता रहा मिट्टी का घरोंदा

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


वक्त की रफ्तार ने जीना सिखाया,
जिन्दगी ने व्याकरण को है भुलाया,
प्यार-उल्फत के ठिकाने खो गये हैं।


"प्रकृति की कृपा" 
विचारों का प्रभाव पड़े !

18 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात..
    घूमने दो समय का पहिया !
    चलने दो हमें भेड़ -चाल !
    आशा है एक दिवस अवश्य पहुँच जायेंगे !
    उस नए बने बागीचे तक..
    जहाँ महक होगी जीवन की
    होंगी पल्लवित आशाएँ मन की
    आशावादी हूँ मैं...तभी तो प्राण है
    तन मे
    एक अच्छी प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय ध्रुव जी,
    समसामयिक व्यवस्था पर आपकी खिन्नता और खीज भरी अभिव्यक्ति स्वाभाविक है।
    सुंदर लिंकों का संयोजन,सभी रचनाएँ अति सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात....
    सांप हैं...
    अमृत की उम्मीद व्यर्थ है...
    नेवलों का इन्तजार करिए...
    वे आ रहे हैं...
    अच्छी प्रस्तुति....
    सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपने अपने स्वास्थ की चिन्ता में डूबे हैं सनम (लोक) तंत्र बीमार होना ही है । बहुत सुन्दर प्रस्तुति ध्रुव जी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सस्नेहाशीष संग शुभप्रभात
    साहित्यकारों का काम है समाज के हालातों को बताना बदलना नेताओं को है नेताओं का गर्दन नापना मतदाता का काम है
    मतदाता सजग नहीं हालात बदल नहीं सकते
    उम्दा लिंक्स चयन

    उत्तर देंहटाएं
  7. सही कहा ध्रुव जी ,विचारों की अभिव्यक्ति को कुचलने के षड़यंत्र, इस अनोखे लोकतंत्र के स्वास्थ्य के लिये बिल्कुल हितकर नहीं , उस अंधेरी खायी की तरफ आवाज लगाएंगे और प्रतिउत्तर मे हमे अपनी ही गलतियों की प्रतिध्वनि सुनायी देंगी,अफसोस की तब हम असमर्थ होंगे केवल अंधेरी खायी मैं गिरना ही हमारा भाग्य होगा ।
    सही मैं ध्रुव जी बिल्कुल सही कहा

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर,उम्दा लिंक संकलन......
    अपनी ही गलतियों की प्रतिवनि सुनाई देगी....
    बहुत खूब।
    लाजवाब अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीय ध्रुव जी,
    समसामयिक व्यवस्था पर तंज स्वभाविक है
    सटीक और सार्थक प्रस्तुति, सभी रचनाकारों को बधाई।
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सादर अभिवादन भाई ध्रुव जी
    हम लिखते है
    मीडिया चिल्ला-चिल्ला कर सुनाता है
    फिर भी नहीं रेंगती जूँ
    सरकार के कान में...
    चारा इन्तजार के सिवा कुछ भी नहीं
    करिए प्रतीक्षा..
    आदर सहित

    उत्तर देंहटाएं
  11. सहमत आपके विचार प्रवाह से ... वो समय्जल्दी ही आने वाला है अगर नहीं जागे तो ...
    अच्छा संकलन ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. आदरणीय ध्रुव जी सटीक और सार्थक प्रस्तुति,

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर संकलन. मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्रिय ध्रुव -- सार्थक चिंतन से भरी भूमिका सहित बहुत ही सराहनीय है आपका संजोया आज का संकलन | सभी रचनाएँ पढ़ी | बहुत अच्छी लगी | नन्हे कवियों को आधार मंच प्रदान करने कू आपकी कोशिश की सराहना करती हूँ | सस्नेह शुभकामना आपको |

    उत्तर देंहटाएं
  15. विचारणीय भूमिका पर आपको बधाई। जनप्रतिनिधि अब जन भ़म प्रतिनिधि बन गए हैं। राजनीति का उद्देश्य अब समाज कल्याण नहीं खुद का कल्याण हो गया है। सुंदर लिंक्स। चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं। आभार सादर।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कविवर दिनकर का कथन यहां मौजू हो उठा है- "राजनीति जब-जब फिसलेगी साहित्य उसे संभाल लेगा"

      हटाएं
  16. बहुत सुंदर सूत्र संयोजन के लिए साधुवाद
    मुझे सम्मलित करने का आभार
    सभी रचनाकारों को बधाई

    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...