पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 9 नवंबर 2017

846...खेद का विषय है

खेद का विषय है कल आदरणीय ''रविंद्र'' जी के पृष्ठ में कुछ तकनीकी त्रुटि होने के कारण आज उनकी प्रस्तुति नही हो पाई। 
जिसके लिए आप सभी से क्षमाप्रार्थी हूँ। 
अब 'क्षमा' की बात करें तो इसका हमारे जीवन में बड़ा महत्व है। 
जो देता है उसकी भी गरिमा 
माँगने वाला सर्वोपरि ! लेन -देन का यह किस्सा यूँ ही 
समाप्त नहीं होता। देने वाला परम आनंद का 
अनुभव करता है और माँगने वाला परम आनंद से गदगद। 
ये संसार इसी मूल पर टिका है ,हम इंसान कितनी भी तरक़्क़ी कर लें,परन्तु इस लेन -देन के बाद होने वाला सुख उन तमाम वैज्ञानिक प्रगति से होने वाले सुख-सुविधाओं से बेहतर है ! 
जो आज मुझे हो रहा है। 
अतः आदरणीय 'रविंद्र' जी आप हमें क्षमा करें। 

आप सभी का स्वागत है। 

आदरणीय "रविंद्र" सिंह जी  
 वो शाम अब तक याद है 
दर-ओ-दीवार पर 
गुनगुनी सिंदूरी धूप खिल रही थी 
नीम के उस पेड़ पर 
चमकीली हरी पत्तियों पर 


आदरणीया  डॉ. अपर्णा त्रिपाठी 

 जरूरी है अभिमान हारना
राज्य दिलों पर करने को
जरूरी है विषपान करना
मानव से शिव होने को
राम सा हो पाने को
त्याग भावना जरूरी है

आदरणीय "पुरुषोत्तम सिन्हा" 

 बिन लघुविराम, बिन पूर्णविराम...
बिन मात्रा, शब्दों बिन प्रस्फुटित होते ये अक्सर,
ये निराकार से प्रतिबिंब यूँ ही काटते चक्कर,
मन के ये प्रतिबिंब, देखे कौन आकर?

आदरणीया "ऋतु आसूजा" 
 देवों की भूमि "उत्तराखण्ड"
 "भारत"के सिर का ताज
गंगोत्री ,यमनोत्री,बद्रीनाथ,केदारनाथ
आदि तीर्थस्थलों का यहीं पर वास
पतित ,पावनी निर्मल ,अमिय माँ
गँगा का उद्गम गंगोत्री .. से 

आदरणीय अमित जैन 'मौलिक'

फ़ितरत बदल रही है मेरे, दिल की आजकल
है कौन जिसकी चल रही है, ख़ूब आजकल।

आदरणीया कमला सिंह "ज़ीनत" 
 कहाँ  हम हों ,तुम हो पता नहीं 
इसे  लिखने  वाले जुआ लिखो 

मैंने  ज़ख्म  सारे   दिखा   दिए 
ऐ  तबीब  अब तो  दवा  लिखो 

पुनः 

"एकलव्य" 

16 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात....
    पसंद आई फटाफट प्रस्तुति
    शुक्रिया आभार और धन्यवाद भी
    रचनाए भी उत्तम चुनी आपने
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर प्रस्तुति। आभार मुझे भी स्थान देने हेतु।
    त्रुटि, एक ऐसा शब्द जो हमें बचपन से आजतक परिपक्व बनाने में सहायक रहा है। अतः परिपक्वता की ओर बढते इस कदम का पुरजोर स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. युवा होना झलकता है उम्दा प्रस्तुतीकरण से
    असीम शुभकामनाओं संग शुभ दिवस

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत उम्दा संकलन
    बहुत बधाई
    सुप्रभात

    उत्तर देंहटाएं
  5. "अब 'क्षमा' की बात करें तो इसका हमारे जीवन में बड़ा महत्व है।
    जो देता है उसकी भी गरिमा
    माँगने वाला सर्वोपरि ! लेन -देन का यह किस्सा यूँ ही
    समाप्त नहीं होता। देने वाला परम आनंद का
    अनुभव करता है और माँगने वाला परम आनंद से गदगद।
    ये संसार इसी मूल पर टिका है ,हम इंसान कितनी भी तरक़्क़ी कर लें,परन्तु इस लेन -देन के बाद होने वाला सुख उन तमाम वैज्ञानिक प्रगति से होने वाले सुख-सुविधाओं से बेहतर है"
    वाह ! वाह !! वाह !!!
    बहुत सुंदर पंक्तियाँ, मैं इन्हें अपनी डायरी में नोट कर रही हूँ ।
    बेहतरीन रचनाएँ । सभी रचनाकारों एवं ध्रुवजी को सादर बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी भूमिका के साथ सुंदर प्रस्तुति..
    बेहतरीन रचनाएँ सभी रचनाकारों को बधाई।
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. लाज़वाब...बहुत सुंदर,बेहतरीन रचनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत मोहक हलचल प्रस्तुति। मेरी रचना को स्थाम देने के लिये ह्रदय से आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  9. लाज़वाब प्रस्तुति,सभी रचनाओं ने मन मोह लिया.
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह !!!
    ध्रुव जी आप अपनी भूमिका में सफल हैं। क्षमा का यहाँ कोई सवाल ही नहीं बल्कि पाठकों और "पाँच लिंकों का आनन्द" परिवार की जानिब आपकी निष्ठा और लगन आपसे ऐसे सराहनीय कार्य करवाती है। आपका हार्दिक आभार एवं ख़ूब सारा शुक्रिया और शानदार प्रस्तुतीकरण के लिए बधाई।

    मेरी प्रस्तुति अब रविवार 12-11-2017 को आ रही है।
    वक़्त के संयोग के आगे नत-मस्तक हूँ। संभव है कल तक हमारा ब्लॉग 2 लाख पेज़ दृश्य का कीर्तिमान स्थापित करे और आगामी सोमवार को 850 वां विशेषांक ! अर्थात उत्सव...... बधाइयां। यह सब आप सभी के अपार स्नेह और आशीर्वाद से संभव हो पाया है। हम चर्चाकार गदगद हैं इस एहसास के साथ। ब्लॉग सेतु पर लगभग हर समय शीर्ष पर अर्थात नम्बर 1 पोज़ीशन !

    आज के अंक में चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाऐं। आभार सादर। असुबिधा के लिए मेरे अंक के लिए चयनित रचनाकारों से क्षमा प्रार्थी।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  12. शुभ मध्यान्ह
    एक शानदार प्रस्तुति
    तकनीकी खराबी को दूर करने में आप माहिर हैं
    आभार
    आदर सहित

    उत्तर देंहटाएं
  13. 'क्षमा' शब्द के सुविचार की भूमिका के दार्शनिक भाव की भूमिका से सजी आज की प्रस्तुति बहुत सुंदर बनी है आदरणीय ध्रुव जी।
    सभी रचनाएँ अत्यंत सराहनीय है।
    सभी चयनित रचनाकारों को मेरी बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही सुन्दर पठनीय लिंक संकलन....
    "क्षमा"माँगने वाला भी महान और देने वाला और महान.... वाह!!!क्या शब्द चुना आपने विमर्श के लिए और साथ मे बेहतरीन भावाभिव्यक्ति के साथ उत्तम विचार
    भी ....
    बहुत ही लाजवाब प्रस्तुतिकरण....

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही सुंदर
    बहुत देर से आ सका...

    आभार सर आप का....

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...