पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शुक्रवार, 10 नवंबर 2017

847... पन्ना पलटने के बाद

सादर अभिवादन
हिंदी साहित्य के समृद्धशाली इतिहास में अपनी विद्वता और संवेदनशील लेखन के द्वारा महिला रचनाकारों ने सशक्त उपस्थिति दर्ज करवायी है। महिला रचनाकारों का योगदान उल्लेखनीय रहा है।

 साहित्य का ५३वाँ सर्वोच्च सम्मान ज्ञानपीठ पुरस्कार साल 2017 के लिए  हिन्दी की शीर्षस्थ कथाकार कृष्णा सोबती(९२) को प्रदान किया जायेगा। इन्होंने हिंदी की कथा भाषा को विलक्षण ताज़गी़ दी है। इनके भाषा संस्कार के घनत्व, जीवन्त प्रांजलता और संप्रेषण ने  समय के कई पेचीदा सत्य उजागर किए है।
वैसे  साहित्यिक सृजनशीलता में स्त्री या पुरुष रचनाकार से फर्क नहीं पड़ता है। पाठकों से रचनाकारों की रचनाएँ संवाद स्थापित करने में कितनी सफल हैं, यह ज्यादा महत्वपूर्ण  है।


अब चलिए आज की रचनाओं की ओर

विचारों के मंथन को प्रेरित करती
की कलम से बहुत सुंदर रचना
"पन्ना एक पलटने के बाद"

पन्ना एक पलटने के बाद
आ जाती वापस...
सुगंध एक मादक सी
काफूर हो जाता है
दर्द मन का..
खिल जाते हैं फूल
बिखरता है मकरंद

शरद ऋतु के आगमन का मनोहारी चित्रण करती
आदरणीया "मीना जी"
की गुनगुनी धूप सी मोहक रचना

लौट गईं नीड़ों को, बक-पंक्ति शुभ्र,
छिटकी नभ में, धवल चाँदनी निरभ्र !
रजनी के वसन जड़ीं हीरक कणिकाएँ,
सुमनों से सजे सृष्टि, जब शरद आए !!!

लफ्जों के मोती पिरोते
आदरणीय "लोकेश जी"
की शानदार  गज़ल

"इतनी यादों की दौलत"

अश्क़ सरापा ख़्वाब मेरे कहते हैं मुझसे
ग़म की रेत पे बदन सुखाया जा सकता है

पलकों पर ठहरे आंसू पूछे है मुझसे
कब तक सब्र का बांध बचाया जा सकता है

प्रेरक रचनाओं की कड़ी में एक विचारणीय विषय जोड़ती 
"आदरणीया सुधा जी"
की भावप्रवण  रचना

आरक्षण और बेरोजगारी...


उजड़ा सा है जीवन, बिखरे से हैं सपने,
     टूटी सी उम्मीदें ,  रूठे से हैं अपने.....
        कोरी सी कल्पनाएं,धुंधली आकांक्षाएं...
             मन के किस कोने में, आशा का दीप जलाएं ???


महिलाओं के  सुरक्षा पर प्रश्न उठाती
  युवा लेखक 
आदरणीय "शिवम शर्मा जी"
का विचारणीय लेख

वाकई हमारी पुलिस व्यवस्था हमे हमारे थाना क्षेत्र या क्राइम क्षेत्र तक ही सुरक्षा देने मे सक्षम हैं? लोगों को सिर्फ थाना क्षेत्रो तक ही नहीं अपितु संपूर्ण देश में सुरक्षा चाहिए, परंतु इस घटना ने पुलिस व्यवस्था द्वारा किए गए दोहरेपन के व्यवहार को उजागर किया है तथा हम सभी को अपनी सुरक्षा के लिए सोचने पर मजबूर कर दिया है।

और अंत में चलिए 
"आदरणीय राकेश जी" 
के पक्षियों के सुंदर संग्रह से ज्ञानवर्द्धक और 
रोचक संसार में

बाया या सोनचिड़ी  भारतीय उपमहाद्वीप और 
दक्षिणपूर्व एशिया में पाए जाने वाला एक दर्जी पक्षी है। 
ये आकर्षक लटके हुए घोसले बनाते है। इनके घोंसले कालोनियों को आमतौर पर कांटेदार वृक्ष या ताड़ के पेड़ पर होते हैं। इनके तीन मुख्य उपप्रजातियां हैं: फिलिपिनस मुख्यतः  भारत के माध्यम से पाया जाता है जबकि बरमैनिकस को दक्षिणपूर्व एशिया के पूर्व में एवं त्रावणकोरेंसिस प्रजाति दक्षिण-पश्चिम भारत में पाया जाता है।  

 आज के लिए बस इतना ही
आपके बहुमूल्य संवाद और सुझावों की प्रतीक्षा में
     
श्वेता

19 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात..
    शुभकामनाएँ कथाकार कृष्णा सोबती जी को
    आभार आपको
    मौसम के अनुरूप रचनाओं का चयन
    साधुवाद
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात..
    अपने आप में अनूठा अंक...
    शुभकामनाएँ....
    सादर.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह ! ख़ूबसूरत रचनाओं का गुलदस्ता पेश किया है आज आदरणीया श्वेता जी ने। भूमिका में साहित्यिक विश्लेषण और लब्ध प्रतिष्ठित कथाकार / उपन्यासकार कृष्णा सोबती जी को ज्ञानपीठ पुरस्कार की घोषणा का समाचार।

    भारतीय कथा साहित्य के परिदृश्य पर एक चमकता सितारा हैं कथाकार कृष्णा सोबती जी। 53 वें ज्ञानपीठ पुरस्कार की घोषणा ने साहित्यप्रेमों का दिल ख़ुश कर दिया जब "मित्रो मरजानी" कहानी से साहित्य जगत में साहसिक लेखन से हलचल पैदा करने वाली कृष्णा सोबती का नाम इससे जुड़ गया।

    उन्हें इस सम्मान के लिए हार्दिक बधाई एवं हमारा सादर नमन।

    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाऐं। आभार सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर संकलन
    उम्दा रचनायें
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए हार्दिक आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर संकलन 'सोबती-स्वस्ति' संग ! साधुवाद!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हार्दिक बधाई उम्दा पोस्ट बनाने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही लाजवाब प्रस्तुतिकरण एवं उम्दा लिंक संकलन...
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद,श्वेता जी!
    सादर आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  8. महिला तो स्वयं सरस्वती हैं। वाग्देवी के प्रतिनिधित्व करने वाली को सम्मान मिलना हर्ष का विषय है। सुन्दर पृष्ठभूमि से सजी एवं उत्तम लिंकों का समायोजन श्वेता जी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुंदर भूमिका के साथ उत्तम प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह!श्वेता जी, सुंदर भूमिका के साथ उम्दा प्रस्तुति करण

    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाऐं।
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपका तीसरा कदम
    श्रमसाध्य प्रस्तुति
    श्वेदबिंदु परिलक्षित हो रहा है
    आपके भाल पर
    आदर सहित

    उत्तर देंहटाएं
  13. मैय्या कृष्णा सोबती
    आपका उपन्यास मित्रो मरजानी पढ़ी है हमने
    शुुरु से आखिर तक
    उत्सुकतावश..
    बाँध कर ऱख दी थी कथानक ने हमें
    खत्म करके ही उठे...
    बाद में टुकड़े-टुकड़े मे दोबारा पढ़े
    नारी जाति का सच उजागर किया है
    आदर सहित

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत शानदार हलचल अंक। सुंदर प्रस्तुतियों का संतुलित समावेश और आकर्षक प्रस्तुतिकरण ने अंक को उम्दा अंकों में शुमार कर दिया। सभी रचनाकारों को बधाइयाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. मेरी रचना को "पांच लिंको का आनंद मे" जैसे मंच पर स्थान देने के लिए अन्तःह्रदय से धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह ! क्या बात है ! खूबसूरत संकलन ! बहुत खूब आदरणीया ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. उम्दा प्रस्तुतीकरण ! भूमिका काबिलेतारीफ़ सभी रचनायें बेहतर श्वेता जी को विशेष धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  18. खूबसूरत और काबिले तारीफ प्रस्तुतीकरण ! सभी रचनायें एक से बढकर एक। श्वेता जी की लगन को नमन। विशेष धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...