पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 30 सितंबर 2017

806... विजयादशमी की ढ़ेरों शुभकामनाओं



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

यूँ तो कई समर हुए है ,
जीवन की गति देखकर ,
पर हर समर में उसकी आखरी मुहोब्बत ,
उसकी आखरी चूभन है|


आखरी उम्मीद


यह एक अजीब सी स्थिति थी । उस व्यक्ति को समझ नहीं आ रहा था
कि वह पानी पीये या उसे हैण्ड पम्प में डालकर चालू करे ।
उसके मन में तमाम सवाल उठने लगे, अगर पानी डालने पर भी पम्प नहीं चला ।
अगर यहाँ लिखी बात झूठी हुई और क्या पता जमीन के नीचे का पानी भी सूख चुका हो ।
लेकिन क्या पता पम्प चल ही पड़े, क्या पता यहाँ लिखी बात सच हो,
वह समझ नहीं पा रहा था कि क्या करे ?


मेरी आखरी घड़ी


वक़्त ने कहाँ था की रूक जाऊंगा दो पल
मैंने कहाँ टी गुज़र जा; ये उनकी गुज़ारिश हैं...
बड़े सजके सज़दे किए औरो के लिए उन्होनें
मुझसे परे हों गएं यहीं अपनी रंजिश हैं...


अलविदा-ब्लाग-साथीयों


मुझे बहुत दूख है की ईतनी जलदी जाना पड रहा है।
सायद उस समय कमेंट पढने के लीये मेरे पास ईंटरनेट कनेक्शन नही हो।
मै कीसी के लीये सायद आसा और कीसी के लीये निराशा हूं…
दूखी हो के नही जा रहा हूं। और ना ही अपने मन से।


><><



विभा रानी श्रीवास्तव
स्त्री होना गर्व रहा सदा



शुक्रवार, 29 सितंबर 2017

805....कितने आसमान, किसके आसमान

सादर अभिवादन
माह सितम्बर का सूर्य
अस्ताचल की ओर...
.....
संगम दो उत्सवों का कल
देवी विसर्जन व दशहरा
एक साथ..
......
एक बार फिर कुआंरी पूजन
औेर कन्या भोजन..
.......
आज है मेरी पसंद...
खड़ी-पड़ी आकृतियाँ
इंसानी सी शक्लों की
झोंकें हैं अपने को
अपनी अपनी लय में,
भर भर आँखों से
कराने को निर्जीव देह
का अग्नि स्नान चिता पर

हर युग में परीक्षा मेरे अस्तित्व की है
सीता मैं राम की,अग्नि स्नान किया
द्रौपदी मैं,बँटी वस्तु सम पाँच पुरुष में 
मैं सावित्री यम से ले आयी पति प्राण,


ज़िन्दगी की किताब के पन्ने.. लोकेश नदीश
गूंजने लगी हैं कान में 
वो तमाम बातें 
जो कभी हमने की ही नहीं 
नज़र आई कुछ तस्वीरें 
जो वक़्त ने खींच ली होगी 

कलियों का मुस्कुराना....अज्ञात
आज़ादियाँ कहाँ वो, अब अपने घोसले की;
अपनी ख़ुशी से आना अपनी ख़ुशी से जाना;

लगती हो चोट दिल पर, आता है याद जिस दम;

शबनम के आँसुओं पर कलियों का मुस्कुराना;



किंकर्तव्यविमूढ....पुरुषोत्तम सिन्हा
रच लेता हूँ मन ही मन इक छोटा सा संसार,
समय की बहती धारा में मन को बस देता हूँ उतार,
सरसराहट होती, नैया जब बहती बीच धार,
निरुत्तर भावों से मैं फिर देखता, समय का विस्तार!

बदल गये हो......अमित जैन 'मौलिक'
डबडबाती कोरों 
से भी देखा,
दिखते तो हो तुम!
पर वैसे नही 
जैसे दिखते थे
संभवतः तुम 
बदल गये हो
हाँ!! तुम 
बदल गये हो।



उलूक का पन्ना....डॉ. सुशील जोशी
टुकड़ा टुकड़ा 
फटने के लिये 
चाहते हुऐ भी 
बट जाना 
हर किसी 
की सोच के 
अनुसार 
उसके लिये । 

आज्ञा दें यशोदा को







गुरुवार, 28 सितंबर 2017

804.....छोटी छोटी बातें ,बड़ी बनती गयीं....

सादर अभिवादन 
दुर्गाष्टमी के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाऐं। 
"हम पंछी उन्मुक्त गगन के पिंजरबद्ध न रह पायेंगे" 
- डॉक्टर शिवमंगल सिंह "सुमन"

 आज प्रस्तुत हैं छह लिंक आपकी सेवा में -
पढ़िए आदरणीय  पंकज "प्रखर" जी का नारी शक्ति के सम्मान में विशेष लेख -

क्योंकि नारी सनातन शक्ति है और ये सामान्य जीवन में देखने में भी आता है की स्त्री अपने जीवन में इतने सामाजिक दायित्वों को उठाकर पुरुष के साथ कंधे से कन्धा मिलाकर चलती है | यदि उन दायित्वों का भार केवल पुरुष के कंधे पर ही डाल दिया जाए तो पुरुष मझदार में ही असंतुलित होकर गिर पढ़े |

आदरणीया निवेदिता श्रीवास्तव जी की जीवन के प्रवाह को 
अभिव्यक्त करती उत्कृष्ट रचना -


छोटे छोटे पल ,पलक से झरते रहे
छोटी छोटी बातें ,बड़ी बनती गयीं
निगाहें व्यतीत सी ,छलकती रहीं
यादें अतीत सी ,कसकती ही रहीं

पेश है जखीरा डॉट कॉम की नायाब पेशकश -

सोच रहा है इतना क्यूँ - शाहीद कमाल ….देवेंद्र गहलोद / 

 सोच रहा है इतना क्यूँ ऐ दस्त-ए-बे-ताख़ीर निकाल

तू ने अपने तरकश में जो रक्खा है वो तीर निकाल 

जिस का कुछ अंजाम नहीं वो जंग है दो नक़्क़ादों की 

लफ़्ज़ों की सफ़्फ़ाक सिनानें लहजों की शमशीर निकाल 

 

पाबंदियों का दंश झेलती बेटियों की आवाज़ को 
सशक्त अभिव्यक्ति दे रही हैं आदरणीया अपर्णा बाजपेयी जी -

ओ बेआवाज़ लड़कियों ! …. अपर्णा बाजपेयी 

बेआवाज़ लड़कियों !
उठों न, देखो तुम्हारे रुदन में........
कितनी किलकारियां खामोश हैं.
कितनी परियां गुमनाम हैं
तुम्हारे वज़ूद में.
तुम्हारी साँसे
लाशों को भी
ज़िंदगी बख़्श देती हैं....

नारी जीवन में सामाजिक वर्जनाओं ने कितनी गहरी जमा ली हैं अपनी जड़ें , महसूस कीजिये आदरणीया पूजा शर्मा राव जी की प्रहारक  रचना में-
तुमने कहा …..पूजा शर्मा राव
तुमने कहा 
लड़की हुई है 
और लिख दी 
एक अदृश्य 
काली स्याही से 
मेरी तक़दीर

बाल कवियत्री ऋतु पंचाल की ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति पेश की है "मेरी धरोहर" ब्लॉग पर आदरणीया यशोदा अग्रवाल जी ने जोकि 

अनेक सवालों को लेकर उपस्थित है -

हो गई हूँ, मैं जागरुक आज, 
जान गई हूँ, स्वार्थी है ये समाज, 
दोगले तर्कों से पूर्णतया संतप्त - 
घर में दुख हो तो मेरी बदकिस्मती होती है! 
अगर घर में आयें खुशियां, 
तो क्यों नहीं मेरी खुश-किस्मती होती? 


आज बस इतना ही। 
आपके अनमोल सुझावों की प्रतीक्षा में।
फिर मिलेंगे।

बुधवार, 27 सितंबर 2017

803.. हर शहर का आजकल मौसम बदला है


मांगल्यम  सुप्रभात

अथ श्री दुर्गा महासप्तमी 

तुम्हीं स्वाहा, स्वाधा और वष्टाकार हो
स्वर भी तुम्हारे ही रुप में निहित है
नित्य अक्षर प्रणव में आकार, उकार और मकार
 इन तीनों मात्राओं में तुम्हारी ही स्थिति है।

आप सबकी आमद के इन रचनाओं को
 पढ़िए और उभरते रचनाकारों की रहनुमाई और हौसला आफ़ज़ाई कीजिए

हर शहर का आजकल मौसम बदला है
रवायत और ज़दीदियत का  संगम है
पर...खूब खरा रंग निखरा ...




आईये आज इसी माहौल की शुरुआत करते है.
प्रस्तुत लिंको से  ब्लॉग के नाम क्रमशः
इस प्रकार से पढ़े ..



बस थोड़ी देर और ये नज़ारा रहेगा,
कुछ पल और धूप का किनारा रहेगा।
हो जाएगें आकाश के कोर सुनहरे लाल,
परिंदों की ख़ामोशी शाम का इशारा रहेगा।



"और वे जी उठे" !
मैं 'निराला' नहीं 
प्रतिबिम्ब ज़रूर हूँ 
'दुष्यंत' की लेखनी का 
गुरूर ज़रूर हूँ 
'मुंशी' जी गायेंगे मेरे शब्दों में 
कुछ दर्द सुनायेंगे 

ट्रोल-नाके से गुज़रने का अनुभव !
सोशल मीडिया पर टहल रहा था।अचानक कई जगह अलग-अलग वैरायटी की गालियाँ दिखाई दीं।
मन ख़ुश हो गया कि हम किसी दूसरी दुनिया में नहीं पहुँचे हैं।यहाँ भी हमारे गली-मुहल्ले का-सा अपनापा है।
वही तू-तू,मैं-मैं,वही मौलिक अभिव्यक्ति।गालियों के मामले में क्या पढ़े-लिखे और क्या अनपढ़ !
इस कला में सभी दक्ष दिखते हैं।सोशल मीडिया अब इसके लिए कोचिंग सेंटर
का काम कर रहा है।लोग यहीं निपट रहे हैं,निपटा रहे हैं।
वेस्ट-मैनेजमेंटका सबसे बढ़िया उदाहरण है यह।
हर प्रकार का कूड़ा यहाँ खप जाता है।
वो भी बिलकुल मुफ़्त में।अन्तर्जाल
में गालियों पर शोधपत्र छापे जा रहे



आज जो जोगन गीत वो गाऊं.
अधरों के सम्पुट क्या खोलूं ,
मूक कंठों से अब क्या बोलूं.
भावों की उच्छल जलधि में,
आंसू से दृग पट तो धो लूँ .


किस्सा दर्द का है फिर भी सुनाता हूं इसे गुनगुना कर ।

वो रूठ कर खुश हो ले, मैं भी खुश होता हूँ उसे मनाकर ।

एक रात के मुसाफिर से तू इजहार-ए-मोहब्बत न कर ,


सुबह होते ही चला जाऊंगा मैं तो तुझे रुलाकर ।


समय के साथ हम  सभी रचनाकार और  बढेंगे समीक्षा होनी ही चाहिए..
💭✍

।। इति शम।।

आभार 

पम्मी सिंह


.

मंगलवार, 26 सितंबर 2017

802...शक्तिस्वरूपा मां दुर्गा की आराधना महिलाओं के अदम्य साहस, धैर्य और स्वयंसिद्धा व्यक्तित्व को समर्पित है.


जय मां हाटेशवरी....
शक्तिस्वरूपा मां दुर्गा की आराधना महिलाओं के अदम्य साहस, धैर्य और स्वयंसिद्धा व्यक्तित्व को समर्पित है. शक्ति की पूजा करनेवाला समाज में महिलाओं के साथ दोयम दर्जे का व्यवहार किसी विडंबना से कम नहीं. हर महिला एक दुर्गा है. उसमें वही त्याग, करुणा, साहस, धैर्य और विषय परिस्थितियों को अपने अनुकूल बनाने की
ताकत है. वह न सिर्फ स्वावलंबी है, बल्कि परिवार और समाज को भी संवारती है.
समय कुछ कम था....
 कुछ अधिक नहीं पढ़ा....
पर पांच रचनाएं....तो मिल ही गयी....


माँ ...
सब सो जाते तब सोती, पर सबसे पहले उठती माँ
चिंतन मनन, नसीहत निश्चय, साहस निर्णय, कर्मठता
पल-पल आशा संस्कार, जीवन में पोषित करती माँ

चंद्रघंटा माँ ( कुण्डलिया )
घंटे का आकार,  चंद्रघंटा कहलाये
अस्त्र शस्त्र दस हाथ,पुष्प उज्ज्वल अति भाये
माँ से पा लो शांति,करो मत तेरा मेरा
सरिता करे अर्पण,  दिया जो मैया तेरा।।

कहीं लंका ना लगा दे BHU का ये ‘कन्या पूजन...खुशदीप
नवरात्र चल रहे हैं. गुरुवार 28 सितंबर को अष्टमी पर कन्या पूजन होना है. लेकिन बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी में शनिवार रात को पुलिस के ‘पुरुष शूरवीरों’ ने एक अलग तरह का ही ‘कन्या पूजन’ किया, छात्राओं पर लाठियां बरसा कर. विडंबना देखिए, एक तरफ हज़ारों किलोमीटर दूर संयुक्त राष्ट्र में सुषमा स्वराज दुर्गा की
तरह गरज रही थीं, ठीक उसी वक्त बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के मुख्य गेट पर ‘लाठी चलाओ, बेटी भगाओ' का ‘पराक्रम’ दिखाया जा रहा था. ये दृश्य देखकर महामना पंडित  मदन मोहन मालवीय की आत्मा भी धन्य हो गई होगी जिन्होंने 101 साल पहले वसंत पंचमी के दिन बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय की नींव रखी थी.

सुनो लड़कियों अब सुधर जाओ ------------ mangopeople
                         आज के समय में तुम्हारे विरोध प्रदर्शनों का केवल राजनैतिक स्तेमाल ही होगा | तुम्हारे मुद्दे कही पीछे छूट जायेंगे बाकी सरकार और विपक्ष अपनी राजनीति चमकायेंगे | सब के सब वही पुरुषवादी सोच के है जिसके खिलाफ तुम लड़ रही हो | ये कभी तुम्हारी बात नहीं समझेंगे आज जो तुम्हारे साथ है वो
कल गद्दी पर बैठते ही तुम्हारे खिलाफ होगा और जो आज तुम्हारे खिलाफ है वो गद्दी जाते ही तुम्हे पुचकारने आ जायेंगे | समाज प्रशासन और राजनीति इन में सो कोई भी तुम्हारी मदद नहीं कर सकता इन समस्याओ के लिए क्योकि ये समस्याए उन्ही की पैदा की गई है , वो तुम्हारी रक्षा उससे क्या करेंगी , वो तुम्हे ही सुरक्षा के
नाम पर कैद कर जायेंगी | कुछ किया भी तो वो ज्यादा प्रभावी नहीं होगा , एक सड़क पर पुलिस बैठेगी तो गली नुक्कड़ पर छेड़ी जाओगी , हिम्मत करके हर छेड़ने वाले को सबक खुद सिखाओगी तो हर लफंगे में डर बैठेगा | अपनी रक्षा करने का आत्मविवास और हिम्मत आएगी तो एक सड़क एक गली नहीं हर जगह सुरक्षित रहोगी  और हमेशा रहोगी |

पूरा हो जाये एक चक्र ......
शायद अगले ही पल
दम घुट जाये और
सांसों से आजाद हो जाए
वो डगमगाती नन्ही सी बाती
और पूरा हो जाये एक चक्र ......

दुस्साहस
क्योंकि अगर सामने से भगाऊंगा तो मेरे नाम होगा और उन लड़कों की ऊपर महफ़िल जमी है।  वह लोग एक आध घंटे में यहाँ आएंगे।  तुम छिपी रहना और मैं खिड़की खुली छोड़ दूंगा जिससे वह समझेंगे की तुम खुद भाग गयी हो। "
"फिर काका आप को तो कुछ नहीं करेंगे ?"
"मेरी चिंता छोडो बेटी , ये गुजरी जिंदगी कितने पाप होते हुए देख चुकी है।अपनी बेटी तो न बचा सका। दूसरी बेटी की जिंदगी अब अपने हाथ से  बचा लूँ तो अहोभाग्य


धन्यवाद...

सोमवार, 25 सितंबर 2017

801....एक दीपक रात भर जलता रहा

सादर नमस्कार
मैं ये सोचती हूँ
इससे अच्छा कोई अभिवादन नहीं
आज अचानक मैं..क्यों
भाई ध्रुव जी अपरिहार्य करणों से प्रवास पर हैं.....
प्रस्तुति बनाने की शैली नही आती उनके समान 
फिर भी कोशिश करती हूँ..बताइएगा.... 
मैं पास हुई या फिर फेल
चलिए देखते हैं आज क्या है...

और तो और..
उँगलियाँ मेरी..
करते करते टाईप 
बहक-बहक सी 
जाती थी.. 
झिड़कने पर 
कहती थी उँगलिया..
जो मेरे मन में आ रही.. 
जा रही उसी अक्षर पर..

image not displayed
हरसिंगार... श्वेता सिन्हा
भोर किरण को छूकर चूमे
दूब के गीले छोर,
शापित देव न चरण चढ़े
व्यथित छलकती कोर,
रवि चंदा के मिलन पे बिछड़े
खिले है हरसिंगार।




मित्रता... नूपुरम
तुमने मुझे 
कुछ कम पाया
और जताया,
रंग तुम्हारे फीके हैं,
और कई जगह दरार है,
कुछ करो ।


क्या एक बेटी को बचा नहीं सकते....ऋतु पंचाल
बहुत अत्याचार तुम्हारा सह चुकी, 
जो कहना था वो मैं कह चुकी, 
अब मुझे और न सताना, 
मुझे दोबारा न पड़े, ये बताना। 


बस, यूँ ही....मीना शर्मा
एक दीपक रात भर जलता रहा,
तमस की तकदीर फूटी, बस यूँ ही !!!

राह तक पापा की, बिटिया सो गई,
रोई-रोई, रूठी-रूठी, बस यूँ ही !!!


कहानी है मेरी पड़ोसन की....... सुधा सिंह
कहने लगा मुझसे-
आप अपने काम से काम रखो 
आप जब घंटों लगी रहती हो फोन पे 
अपनी सखियों के संग 
तो क्या मैंने कभी डाला है 
आपके रंग में भंग 
आप कौनसा दादी की बात सुनती हो


चुप सो जा मेरे मन ...... सुधा देवरानी
रात छाई है घनी ......
पर कल सुबह होनी नयी,
कर बन्द आँखें , सब्र रख तू ;
मत रो ,मुझे न यूँ सता.......
चुप सो जा.......
मेरे मन.......
चुप सो जा.....!!!

आज बस
कहते हैं न, कापी किसी की..
और लिखे कोई और..
ये पन्ना श्रीमान जी ने खोला था
दो रचनाओं के लिंक रखे थे..
किसी क्लाईन्ट का फोन आया

उन्हें बिलासपुर जाना पड़ा..
कह गए देख लेना...
सो देख ली उन्हें...
य़शोदा ..













रविवार, 24 सितंबर 2017

800....बस मतलब की बातें समझने वालों को कैसे समझाई जायें बेमतलब की बातें


सादर अभिवादन
प्रसन्नता अपार....
पर व्यक्त करूँ तो करूँ कैसे
शब्दों का टोटा हो गया अचानक....
आज की प्रस्तुति में हम
सभी चर्चाकारों की पसंद की दो रचनाएँ


भाई रवीन्द्र जी की पसंद..
जी चाहता है,
काँच के किसी जादुई टुकड़े से
हर एक के हथेलियों में
खुरच खुरच कर खींच दूँ
खुशियों भरी तकदीर की रेखा।

अबला की गिनती में आना, 
अब मुझको स्वीकार नहीं
शांत, विनम्र, मधुर, ममतामय 
हूँ लेकिन लाचार नहीं
हर दुर्योधन, दुःशासन से, 
लड़ने की जिद मैं करती हूँ !

..कुलदीप भाई की पसंद..


'वृद्ध-आश्रम' होने चाहिए या नहीं?.. प्रीति अज्ञात
यहाँ न सपने हैं न ख्वाहिशें। उम्मीदों की टूटन, रिश्तों की सघन गर्मी,
मन की उष्णता, ह्रदय की घुटन और इस सबको भुलाने की नाक़ाम कोशिशों में लगे तमाम अनुभवों की ठिठुरन है। अपनी जिम्मेदारियों को निभाकर और कर्तव्यों के आगे स्व की तिलांजलि देने के बाद जो शेष है वही इनका जीवन है. अपनों का दूर जाना
जितना आसान  है


"हाँ हम शर्मिंदा हैं"...प्रीती राजपूत शर्मा
ना जाने कब ये शर्मिंदगी दूर होगी।
न जाने कब बेटी के जन्म पे फिर से दीवाली होगी।
हम सच में शर्मिंदा हैं की हम 125 करोड़ के इस युवा प्रधान देश में भी
सुरक्षा के नाम पर हर रोज बलत्कार के शिकार हो रहे है ।
हम शर्मिंदा हैं क्योंकि ये सब देख कर भी हम जिन्दा हैं ।

विभा दीदी की पसंदीदा रचनाएँ

मधुर मधुर हो अपना जीवन....अशोक व्यास
पीढ़ी दर पीढ़ी
अनुस्यूत
एक भाव
एक सात्विक सातत्य
सहेजता
सम्बन्ध समग्रता से
 खिल  जाता सौंदर्य शाश्वत का


नीड़ का निर्माण फिर-फिर.......राजीव के. सक्सेना
वह उठी आँधी कि नभ में
छा गया  सहसा अंधेरा
धूल धूसर बादलों न
भूमि को एस भांति घेरा
रात सा दिन हो गया फिर

पम्मी सिंह जी की पसंद
ग़ज़ल..पूनम मटिया
हैफ़ ! कितना बदल गई हूँ मैं
शम्अ जैसे पिघल गई हूँ मैं

क्या यही मैं थी, क्या वही हूँ मैं
किसके पैकर में ढल गई हूँ मैं


कैसी चले रहे हो तुम चाल साहब....राज कानपुरी
कैसी चले रहे हो तुम चाल साहब 
कर रहे हो इंसां को हलाल साहब 

चूस कर के खून इन गरीबों का 
हो रहे हो और मालामाल साहब

हमारा ८०० वां अंक, शुक्र है यहाँ रचनायें शामिल करने के लिए रचनाकारों का किसी नामी -ग्रामी रचनाकारों का शागिर्द अथवा पिछलग्गू होना आवश्यक नहीं। जो सत्य है अजेय है ,'सार्वभौमिक' एवं सत्य कभी छुपता नहीं ,अपने तेज को चारों ओर बिखेरता है। इसी सत्य को हम साकार करने की चेष्टा इस ब्लॉग "पाँच लिंकों का आनंद'' परिवार की ओर से कर रहे हैं, आप सब का सहयोग अपेक्षित है। इसी क्रम में इस विशेषांक पर मेरी पसंद की दो रचनायें हमारे युवाकवि आदरणीय "पुरुषोत्तम सिन्हा"  एवं 
आदरणीय राकेशश्रीवास्तव"राही" द्वारा "एकलव्य" 



मुखर हुई वाणी उस बिंब की,
स्पष्ट हो रही अब आकृति उसकी,
घटा मोह की फिर से घिर आई,
मन की वृक्ष पर लिपटी अमरलता सी।




 साष्टांग प्रणाम इन बाबाओं के भक्तों को भी, जो इन बाबाओं के विरुद्ध साक्ष्य होने के बाद भी अपनी भक्ति में कोई कमी नहीं रखी। इसके साथ ही मैं वैधानिक ढंग से क्षमा चाहता हूँ उन बाहुबली भक्तों से जो महाबली बन कर भारत के सम्प्रभुता को चुनौती देते आए है तो 
मैं किस खेत की मूली हूँ। 

अब हम दोनों की पसंदीदा रचनाओं की बारी..


मुझ तक पहुँच जाओगे...!!!...सुषमा वर्मा
मैं आज किसी सुकून की तलाश में,
उन जगहों पर जा कर,
पहरों बिता आती हूँ,
जिस जगह तुम घंटो बैठा करते थे..
तुम्हारी खुशबू हर तरफ महसूस करती हूं,


गालों का गुलाल...आनन्द द्विवेदी
एक दिन जब 
मुस्कराता हुआ ईश्वर 
मेरी रूह पर वैधानिक चेतावनी सा 
गोद रहा था ..प्रेम 
मैं उसके हाथ से फिसल कर गिरा तुम्हारी मुंडेर पर 


दीपा....एम. रंगराज अय्यंगर
उसने दीपा की हालत देखी थी, तो कुछ कह नहीं पाया था. 
जब पति के साथ दीपा उतरने लगी गाड़ी से - 
तब लड़के ने सिर्फ इतना कहा - दीदी - "आई एम सॉरी दीदी." 
दीपा अभी अभी शांत हो पायी थी. लड़के की बात सुनकर 
उसकी आँखों की कोरें फिर भीग गई. दीपा ने ममता भरा 
हाथ उसके सिर पर फेरा और आगे बढ़ गई. 

और  अब ये हमारी पसंद की अंतिम रचना..
मेरी चचेरी बहन दिव्या...लगभग पूरे पितृ-पक्ष में हमारे घर पर ही थी

वो बिगड़ गई थी..गरम कहानियाँ लिखती थी..हमारी समझाईश व पितरों के आशिर्वाद से अब वह ठीक हो गई है.. किसी संत ने ठीक ही कहा है
निंदक नियरे राखिए,आँगन कुटी छवाए
साबुन पानी के बिना मन निर्मल करे सुहाए
कूड़ा 
'' कचरा सबसे ज्यादा पढ़ी गई.. 
उसी की लिखी एक कविता..


कूड़ा 'औ' कचरा...दिव्या अग्रवाल
लिखती थी मैं 
कूड़ा 'औ' कचरा 
आती थी बदबू 
दिखाई पड़ती थी 
दिव्या के कूड़ेदान पर,

इस कविता को श्रीमति मीना शर्मा जी ने समझा...
उनकी प्रतिक्रिया...

Meena Sharma19 September 2017 at 22:59
हैरान हूँ मैं तो दिव्याजी, ये देखकर कि आपने इतनी निर्भीकता, इतने बडप्पन से अपनी गलतियों को न केवल मान लिया है, बल्कि सभी के सामने मान लिया है !!!

दिव्याजी,लेखक समाज में बहुत कम लोग ऐसे होते हैं जो अपने लेखन पर स्वयं ऐसी टिप्पणी कर सकें जैसी आपने की है । ईश्वर आपको सुंदर लेखन के उपहार से नवाजे,इसी शुभकामना और बहुत सारे स्नेह के साथ....



‘उलूक’  के पन्ने से साभार..

तो आईये
‘आठ सौवीं’ 
'पाँच लिंको
की हलचल’ 
के लिये पकाते हैं 
आसपास हो रही 
हलचल को लेकर 
दिमाग के गोबर 
के कुछ कंडे 
यूँ ही सोच 
में लाकर 
रंग में सरोबार 
कन्हैया भक्त 
बरसाने के 
डंडे बरसाते 

बस....
मैं ये समझती हूँ.... इससे ज़ियादा
हमारे पाठक नहीं झेल सकते

इति..आठ सौवां अंक
यशोदा ..















Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...