पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 28 अक्तूबर 2017

834... आस्था


सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

दशहरा दीवाली छठ बताते हैं
बुराई से लड़ने की ताकत
और जीत दिलाती है
हमारी संस्कृति और हमारी

आस्था


झौंक देंगे पूरे शहर को  आग में
रहबरों का ही आसरा है उनको
इसलिये बड़ा हुआ है हौंसला
कोई उनका क्या बिगाड़ सकता है।


धर्म के नाम पर धोखा


लाचारों को गुमराह कर,
अपना साम्राज्य बना रहे हैं,
भक्ति के नाम पर ,
विवेक मिटा सही गलत की समझ मिटा रहे,
यह कैसा धंधा भगवान के नाम पर,
मासूम जिंदगियां लगा रहे दांव पर,


अनास्था के दौर में आस्था


यदि जडता परम्परा है तो परिवर्तन आधुनिकता है ।
परिवर्तन ही बनी बनाई धारणाओं का खंडन करके प्रेम के पक्ष मे माहौल तैयार करता है ।
जी हां प्रेम युद्ध का प्रतिपक्ष है ।
इस कृति मे महज विरोध और विश्लेषण भर नही है
 प्रेम का  सकारात्मक अनुचिन्तन है


प्रयोगवादी कविता


मैं आस्था हूं
तो मैं निरंतर उठते रहने की शक्ति हूं
...    ...    ...
जो मेरा कर्म है,उसमें मुझे संशय का नाम नहीं
वह मेरी अपनी सांस-सा पहचाना है


फूस के छप्पर पर


समझ से परे
जिंदगी के कई मोड़
जी चुके कई पल, कई लम्हें, कई कथाएं
लताओं के लिए अथाह सागर
पूरा जीवन सिमटता नजर आता


><><

फिर मिलेंगे




11 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    हमेशा की तरह वेहतरीन प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभप्रभात आदरणीया विभा दी,
    हमेशा की तरह आपकी एक विषय पर चुनी हुई सुंदर पठनीय रचनाएँ बहुत अच्छी लगी। सुंदर संयोजन।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुप्रभात।
    सादर नमन आदरणीया दीदी।
    आस्था जैसे गंभीर बिषय पर आपने अलग -अलग दृष्टिकोण की रचनाओं का सुंदर संकलन तैयार कर सुधि पाठकों को चिंतन के नए आयाम दिए हैं। आपका बिषय आधारित साप्ताहिकप्रस्तुतीकरण जोकि शोधपरक होता है अत्यंत प्रभावशाली है। गंभीर रचनाओं के मर्मज्ञ पाठक आपके अंक का इंतज़ार अवश्य करते होंगे।
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाऐं।
    आभार सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सभी रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाऐं बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय आंटी बहुत खूब...हमे हमेशा आप की प्रस्तुति में एक नया रंग व आनंद प्रतीत होता है....
    आभार आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह! बहुत सुन्दर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीया ,
    आज का अंक अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...