पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 31 अक्तूबर 2017

837.....आई सी यू में अलौकिक शक्ति का रहस्य

सादर अभिवादन...
भाई कुलदीप जी ने पृष्ठ तो खोल दिया पर....
उनका नेट जो है न...
इन्टेन्सिव क्रिटिकल केयर यूनिट में जमा हो गया
सो उन्हीं के पेज में यशोदा आपके समक्ष.....

आई सी यू में अलौकिक शक्ति का रहस्य....प्रकाश गोविन्द
एक हॉस्पिटल के आई सी यू में
हर रविवार
एक ही बिस्तर पे ठीक 11 बजे
एक मौत हो रही थी
---
हर रविवार उसी बेड पर
ठीक उसी समय हो रही मौत 
डॉक्टरों की समझ से परे थी,

उनसे कह न पाते जो शब्द मेरे,
विस्तारपूर्वक कह गई थी उनसे मेरी नमी!
उस हार मे भी था जीत का एहसास,
विहँस रहे नैन उनके, समझ चुके वो मेरे मन की!

भँवर 
और तितली
फूलों से
बतियाने लगे,
गुलाब की 
खुशबू ने 
बाग का 
हर कोना 
महकाया है।

साथ कोई दे, न दे , पर धीमे धीमे दौड़िये !
अखंडित विश्वास लेकर धीमे धीमे दौड़िये !

दर्द सारे ही भुलाकर,हिमालय से हृदय में 
नियंत्रित तूफ़ान लेकर, धीमे धीमे दौड़िये !

मन सागर में ज्वार उठा 
आते देखा अपना 'चाँद' 

फिर अम्मी की ईद हुई 
छुट्टी पर घर आया 'चाँद' 

फिसलकर सर्प ऊपर से गिरा जब तेज आरे पर।
हुआ घायल, समझ दुश्मन, लिया फिर काट झुँझलाकर।
हुआ मुँह खून से लथपथ, जकड़ता शत्रु को ज्यों ही
मरे वह सर्प अज्ञानी, कथा-संदेश अतिसुंदर।।

यही वे शब्द हैं
उपयोग किया है
हरिवंश राय ने
शौकत थानवी ने भी
अपनाया इसे...
इन्हीं शब्दों से
हंसाया जग तो
काका हाथरसी ने

बस...
इज़ाज़त दें
यशोदा ..

12 टिप्‍पणियां:

  1. सस्नेहाशीष संग शुभप्रभात छोटी बहना
    उम्दा लिंक्स चयन

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात...
    आज ठीक हो गई नेट की तबियत
    आई सी यू पसंद आया
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन रचनाएँ
    आभारी हूँ
    आदर सहित
    दीदी को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभप्रभात दी,
    शीर्षक बहुत रोचक है:),विभिन्न रंगों से सजी सभी रचनाएँ बहुत अच्छी है।
    अति आभार दी मेरी रचना शामिल करने के लिए। सभी साथी रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुभदोपहर....
    सुंदर
    आभार आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन अंक। सम्मिलित प्रयास सुखद परिणाम देते हैं। उत्कृष्ट सरस सामयिक रचनाओं का चयन। सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं। आधार सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  7. शीर्षक के साथ साथ सुंदर प्रस्तुति सभी रचनाकारों की बथाई
    धन्यबाद.

    उत्तर देंहटाएं
  8. ब्लॉगिंग के लिए बेहतरीन काम कर रहे हैं आप लोग, रचना के चुनाव के लिए आभार आप का !

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीया दीदी प्रणाम आज का अंक विशेष लगा खासकर आदरणीय रविकर जी की अनूठी कृति। सादर "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...