पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 1 नवंबर 2017

838..संभावना की आपार झलक में खोना..

।। उषा स्वस्ति।।

आज नवम्बर महीने का पहला दिन और हफ्ते का तीसरा  दिन
 यानि बुधवार है
आप सभी पाठकगन यही सोच रहे होगें इसमें 
नई बात क्या है?
दिनांकः को उल्लेख करने का तात्पर्य यह कि
'' समय और साहित्य ''
किसी का इंतजार  नहीं करते कभी- कभी अल्पकालिक
 अर्द्ध - विराम प्रतीत
 होता पर विराम नहीं।

"बड़ी मिलती जुलती सी बातें है 
दोनों में
इन्हें पलटकर देखना
संभावना की आपार झलक में खोना
बड़ा अच्छा लगता है.."

आज तम्हीद  की जरूरत ही नहीं हो रही..✍

रूबरू होते हैं  लिंकों के माध्यम से 
आज के रचनाकारों के नाम
 इस प्रकार से...

 आदरणीया रश्मि प्रभा जी,
शालिनी कौशिक जी, आदरणीय अंशु माली रस्तोगी जी,
आदरणीय डा प्रवीण चोपड़ा जी और 
अपर्णा बाजपेयी जी 

🔗यदि तुम चाहो !!!




बैठो

कुछ खामोशियाँ मैं तुम्हें देना चाहती हूँ

वो खामोशियाँ

जो मेरे भीतर के शोर में

जीवन का आह्वान करती रहीं

ताकि

तुम मेरे शोर को पहचान सको

अपने भीतर के शोर को


http://shalinikaushik2.blogspot.in/2017/10/blog-post_28.html?utm_source=feedburner&utm_medium=feed&utm_campaign=Feed:+blogspot/TxmJU+(kaushal)&m=1


पड़ोस में आंटी की सुबह सुबह चीखने की आवाज़ सुनाई दी ....
''अजी उठो ,क्या हो गया आपको ,अरे कोई तो सुनो ,देखियो क्या हो गया इन्हें ...'' हालाँकि हमारा घर उनसे कुछ दूर है किन्तु सुबह के समय कोलाहल के कम होने के कारण उनकी आवाज़ 

ऑफलाइन ही नहीं लगा करती, सोशल मीडिया पर भी लगती है। 
सोशल मीडिया पर लगी फेस्टिव सेल तरह-तरह के शुभकामना संदेशों से 
भरी पड़ी रहती है। पांच-सात तरह के शुभकामना संदेश एक-दूसरे को खूब 
व्हाट्सएप्प किए जाते रहते हैं।

🔗मां की रसोई मां की तरह एक ही होती है!

आज   कल  पब्लिक को इमोशनल ब्लेकमेल किया जाता है ... 
शहर में कितने ही होटल-स्टरां जिन का नाम ..मां की रसोई ... 
कईं जगहों पर मैंने ढाबे देखे ...जिन का नाम था .. हांडी... 
पता नहीं पंजाब में किसी ने कुन्नी के बारेे में सोचा कि नहीं..

भूख से नहीं मर रहे बच्चे, रिक्शा चालाक और मजदूर,
तब सड़क पर खड़े एक भिखमंगे ने 
फेंक दिया था खोलकर 
अपने शरीर पर बचा 
एक मात्र अधोवस्त्र,
खड़ा हो गया था नंगा 
शासन के ख़िलाफ़!

  शब्दों द्वारा संवाद  बनाए रखे 


।।इति शम।।
पम्मी सिंह
धन्यवाद..✍

20 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात सखि पम्मी जी
    अच्छी सोच
    इन्हें पलटकर देखना
    संभावना की आपार झलक में खोना
    बड़ा अच्छा लगता है.."
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात !
    अल्पविराम का रहस्य विचारणीय है।
    आपकी पुनः सक्रियता का हार्दिक स्वागत है।
    सुंदर लिंक संयोजन आज के अंक में।
    बधाई आपको।
    हमारा ब्लॉग अब 2 लाख पेज़ व्यूज़ का आंकड़ा शीघ्र ही छूने वाला है।
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाऐं।
    आभार सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  3. उषा स्वास्ति पम्मी जी,
    सुस्वागतम् जी,पुनः आपकी सक्रियता सुखद प्रतीत हो रही है। बहुत सुंदर लिंकों की सराहनीय प्रस्तुति।
    सभी रचनाएँ बहुत अच्छी है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन प्रस्तुति...
    अच्छा लगा..
    काफी दिनों बाद मिले हैं न
    सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर लिंकों की प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. पठनीय रचनाओं से परिचित कराते सुंदर सूत्र...आभार पम्मी जी !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर हलचल ,पम्मी जी सभी रचनायें बहुत अच्छी हैं

    उत्तर देंहटाएं
  9. उम्दा लिंकों से सजी पांच लिंकों का आनंद, सुन्दर प्रस्तुति पम्मी जी।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर सन्योजन
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  11. आदरणीया पम्मी जी प्रणाम आज का अंक बहुत ही बेहतरीन लगा विशेषकर "चिकोटी','यदि तुम चाहो'और आपकी मनमोहक प्रस्तुति में शब्दों का खेल। वाह ! सादर


    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहतरीन लिंक्स एवं सशक्त प्रस्तुतियाँ आज की हलचल में ! बधाई पम्मी जी !

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह ! खूबसूरत लिंक संयोजन ! बहुत सुंदर आदरणीया ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सभी लिंक्स बहुत अच्छे हैं।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...